नोटबंदी के बाद लाला को मिला मुफ़्त का पैसा

जिंदगी बस यही है

टिप्पणी:यह लघुकथा साहित्य शिल्पी नामक ई-पत्रिका में छ्प चुकी है (दिनांक 2016-11-29)| आम तौर पर मैं अपने अनुभवों को लघुकथा के रूप में ढ़ालकर इस चिट्ठे पर पेश करता हूं, लेकिन यह पूर्णतः काल्पनिक है, सामयिक घटना पर आधारित।

मैं घर के पास की दुकान से घर के लिए रोजमर्रा का जरूरी सामान लेकर आ रहा था। सामने से मुरारीलाल साइकिल से आते दिख गया। मैं रुक गया। जैसे ही वह नजदीक पहुंचा मैंने उसे रोकने के लिए आवाज दी, “अरे ओ लाला!”

उसने अपनी दायीं ओर नजर घुमाई और मुझे देखकर साइकिल रोकते हुए पास आ गया। मैंने टोका, “अरे लाला, इतनी तेजी से कहां से आ रहे हो? जरा आजू-बाजू भी देख लिया करो। कभी-कभी हमारे जैसे परिचित, यार-दोस्त, राह में बतियाने के लिए खड़े मिल जाते हैं।”

उसने जवाब दिया, “बैंक से आ रहा हूं। हजार-पांचसौ के कुछ नोट जमा करने थे। बहुत भीड़ थी…

View original post 342 और  शब्द

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s